Type Here to Get Search Results !

दीपावली क्यों मनाते हैं – Diwali Kyu Manate Hai, दिवाली सही तरीके से कैसे मनाये

दीपावली क्यों मनाते हैं – Diwali Kyu Manate Hai 

दीपावली क्यों मनाई जाती है

दिवाली सही तरीके से कैसे मनाये

दिवाली, या दीपावली भारत के कई हिस्सों में एक आधिकारिक सार्वजनिक अवकाश है और यह पांच दिनों तक मनाये जाने वाले हिन्दू पर्व का हिस्सा है जिसे ‘दीपों का उत्सव’ कहते हैं।

कार्तिक मास की अमावस्या को दिवाली का त्योहार मनाया जाता है. पूरे देश में इसे प्रकाश और रोशनी के त्योहार के रूप में मनाया जाता है. दिवाली दरअसल एक दिन का नहीं, बल्कि 5 दिनों का त्योहार है. धनतेरस से ही इस त्योहार की शुरुआत हो जाती है. धनतेरस, नरक चतुदर्शी, अमास्या, शुक्ल प्रतिपदा और भाई दूज तक दिवाली का त्योहार मनाया जाता है.

दीप जलाते, पटाखे फोटते या एक दूसरे से त्यौहार मिलते वक्त अक्सर हमें ख्याल आता है कि आखिर दिवाली क्यों मनाई जाती है? इसका महत्व क्या है और क्या है इसके पीछे की कहानी? हम आपको बताने जा रहे हैं दिवाली के बारे में कुछ रोचक बातें और प्रचलित कहानियां.

Diwali कैसे मनाये हिंदी में

कथा 1

भगवान राम जब रावण को मारकर अयोध्या नगरी वापस आए तब नगरवासियों ने अयोध्या को साफ-सुथरा करके रात को दीपों की ज्योति से दुल्हन की तरह जगमगा दिया था. तब से आज तक यह परंपरा रही है कि कार्तिक अमावस्या के गहन अंधकार को दूर करने के लिए रोशनी के दीप प्रज्वलित किए जाते हैं.

दीपावली क्यों मनाया जाता है

कथा-1

जब देवताओं और राक्षसोंं द्वारा समुद्र मंथन चल रहा था तब कार्तिक अमावस्या पर देवी लक्ष्मी क्षीर सागर (दूध का लौकिक सागर) से ब्रह्माण्ड मे आई थी. तभी से माता लक्ष्मी के जन्मदिन की उपलक्ष्य मे दीपावली का त्यौहार मनाया जाता है.

दीपावली कब मनाया जाता है

कथा 3

दिवाली के एक दिन पहले नरक चतुर्दशी मनाते हैं क्योंकि भगवान श्री कृष्ण ने इस दिन नरकासुर का वध किया था. नरकासुर एक पापी राजा था, यह अपने शक्ति के बल से देवताओं पर अत्याचार करता था और अधर्म करता था. उसने सोलह हजार कन्याओं को बंदी बनाकर रखा था. इसलिए भगवान श्री कृष्ण ने नरकासुर का वध किया. बुराई पर सत्य की जीत पर लोगोंं ने अगले दिन उल्लास के साथ दीपक जलाकर दीपावली का त्यौहार मनाया.

दीपावली का महत्व

लक्ष्मी जी को धन की देवी और गणेश भगवान बुद्धि के देवता हैं. इस दिन इनके पूजन से बुद्धि और धन की प्राप्ति होती है क्योंकि बुद्धि के बिना धन का कोई महत्व नहीं होता. इसीलिए कहा जाता है कि मां लक्ष्मी के घर आने के बाद अगर बुद्धि का उपयोग नहीं किया जाए तो लक्ष्मी जी को रोक पाना मुश्किल हो जाता है.

दीपावली कब मनाया जाता है

इसीलिए दीवाली की शाम को मां लक्ष्मी के साथ-साथ गणेश जी की प्रतिमा रखकर दोनों की साथ में पूजा की जाती है. इस दिवाली आप भी भगवान गणेश और मां लक्ष्मी जी की विधिवत पूजा करके अपने घर में धन, बुद्धि और यश का वास करवा सकते हैं.

दिवाली सही तरीके से कैसे मनाये?

आपने तो जान ही लिया होगा के दिवाली क्यों मनाया जाता है. चलिए जान लेते है के दिवाली कैसे मनाये. आपको लग रहा होगा के ये तो सबको पता है के दिपाबली कैसे मनाते है पर में आपको सही तरीके से कैसे मनाते है वो बताउंगी. जिससे आप एक खुशाल और सुरक्षित दीपावली का आनंद उठा सके.

दीपावली का महत्व

 दिवाली मानाने के लिए अपने घर को अच्छे से साफ़ करें, घर की गन्दगी को हटाये और कूड़ेदान में ही कचरा फेकें न की रोड पर या जमीन पर डालें. घर को साफ़ करने के बाद हम अपने घर को सजाते हैं, बहुत से लोग दिये का इस्तेमाल करते हैं और बहुत से लोग मोमबत्ती का इस्तेमाल करते हैं. लेकिन दिवाली में अगर अपने घर को रोशन करना है तो दिये का इस्तेमाल करना ही सही तरीका है.

बहुत से घरों में आपने देखा होगा की लोग अपने घर के बाहार दिप जलाने के साथ साथ रंगोली भी बनाते हैं जो दिखने में बहुत ही खुबसूरत होते हैं और जिन्हें देख कर पता ही नहीं चलता की वो भी हमारे लिए हानिकारक हो सकते हैं. हम रंगोली में जो रंग भरते हैं वो रंग क्या natural होते हैं? नहीं होते, उन रंगों को हम कहाँ से लाते हैं?



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

Hollywood Movies